Breaking News

div id='beakingnews'>Breaking News:
Loading...

खत्म होगी मौत की तिजारत, आएगी खुशहाली: सांसद

खत्म होगी मौत की तिजारत, आएगी खुशहाली: सांसद

राष्ट्र निर्माण में एक कदम के संकल्प के साथ दैनिक जगरण द्वारा आयोजित हर वोट कुछ कहता है कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्थानीय सांसद सुनील कुमार सिंह ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से  चतरा संसदीय क्षेत्र की धरती से मौत की तिजारत खत्म होगी। जंगल को काट कर की जा रही पोस्ते की खेती और फिर उससे अफीम, चरस, ब्राउन शुगर आदि नशीले पदार्थ बनाकर देश के विभिन्न भागों में पहुंचाया जा रहा है। चतरा से पंजाब और फिर दूसरे देशों में इसका नेटवर्क है। ऐसे अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क पर एनआईए नजर रख रहा है। स्थानीय संसाधनों को विकसित कर यहां खुशहाली लाई जाएगी। इस पर प्रयास चल रहा है। ये बातें स्थानीय सांसद सुनील कुमार सिंह ने कहीं। वह शनिवार को दैनिक जागरण के-हर वोट कुछ कहता है कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। कार्यक्रम जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के प्रशिक्षण भवन में आयोजित था। उन्होंने कहा, चतरा में रेल का सपना बड़ा पुराना है। पूर्ववर्ती सरकारों की लापरवाही और वोट के लिए लोकलुभावन घोषणाओं की यह परियोजना भेंट चढ़ती रही है। वर्तमान सरकार इस पर गंभीर है और उम्मीद है कि यह सपना बहुत जल्द पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि इतिहास और संस्कृति की धरती चतरा पर पर्यटन विकास की असीम संभावनाएं हैं। उन्हें विश्व पटल पर निखारने का प्रयास चल रहा है। खासकर कौलेश्वरी और भद्रकाली को पहचान दिलाने में मोदी सरकार सफल रही है। इस पर अभी बहुत काम होना बाकी है। राजाराम मोहन राय और 1857 के शहीद सैनिकों को सम्मान दिलाने पर भी काम चल रहा है। जिले में नदियों की भरमार है। मगर आज तक इन से बहने वाले वर्षाजल को संरक्षित कर लाभ नहीं उठाया गया। यहां तक की संघरी घाटी में एक बांध बनाने की एक योजना बनी थी, मगर पूर्ववर्ती सरकार की लापरवाही से उसके कागजात तक गायब हो गए। क्षेत्र में धान, लाल मिर्च, शिमला मिर्च, मशरूम आदि की उपज बड़े पैमाने पर होती है। इसे रखने के लिए शीतघर का अभाव है। सरकार विभिन्न क्षेत्रों में छोटे-छोटे शीत घर बना कर उसे संरक्षित करने की योजना बना रही है। प्रयास यह भी चल रहा है कि कृषि उत्पादों पर आधारित छोटे-छोटे उद्योगों की स्थापना हाे। बेरोजगार युवकों को दक्ष बनाने के लिए कौशल विकास कार्यक्रम चल रहा है। उन्हें बैंक से व्यक्तिगत अथवा समूहबद्ध ऋण उपलब्ध करा कर स्वावलंबी बनाया जाएगा। कार्यक्रम में ख्यात शिक्षाविद व इतिहासकार डा. इफ्तेखार आलम, पूर्व विधायक जनार्दन पासवान, बार एसोेेेसिएशन के अध्यक्ष शक्ति सिंह, सचिव सुबोध कुमार मिश्रा, समाजसेवी शिवनंदन सिंह और रांची यूनिट के समाचार संपादक संदीप कमल ने संयुक्त रूप से सांसद को नागरिकों का मांग सौंपा।

कोई टिप्पणी नहीं