Breaking News

div id='beakingnews'>Breaking News:
Loading...

खेतों में नही है पानी, किसान पम्प चला हो रहे परेशान--आकाश कुमार सिंह की रिपोर्टिंग

खेतों में नहीं है पानी,पम्प चलाकर किसान कर रहे बिछड़े तैयार...
मयूरहंड : मानसून के समय पर आने के बाद भी किसानों के माथे पर चिंता की लकीर देखने को मिल रही है। किसान खेतों में पानी को नहीं देख चिंतित हो रहे है। आषाढ़ का माह गुजर रहा है और सावन आने को है। इसके बाद भी खेत सूखे पड़े है। ऐसे में कैसे धान के बिछड़े तैयार किए जाए। खेतों के पगडंडियों पर बैठ किसान यही सोच में पड़े है। वही कुछ सक्षम किसान पम्प के माध्यम से तालाब व कुएं से खेतों तक पानी पहूंचा कर खेतों को भर रहे है। ताकि समय से धान बिछड़े तैयार किए जा सके। किसान शिव कुमार सिंह ने बताया की मानसून समय पर आने की सुचना से सभी किसान ख़ुशी से झूम रहे थे। लेकिन मानसून के समय पर आने के बावजूद खेतों में पानी नहीं जम पाया। बारिश की कुछ ही बूंदे खेतों में जा पायी हैं। यदि इसी प्रकार मौसम धोखा देता रहा तो धान के बिछड़े खेतों तक भी नहीं पहूंच पायेगे। वही किसान गुडन सिंह ने बताया की पिछले वर्ष समय पर मानसून नहीं आने के बावजूद अच्छी बारिश हुयी थी। जिसे और वर्षो की अपेक्षा अच्छी पैदावार हुयी थी। लेकिन इस वर्ष बारिश ने सोचने पर विवश कर दिया हैं। किसान किसी प्रकार खेतों में पानी जमा कर धान के बिछड़े तैयार करने में लगे है। मानसून आए दस दिन से ऊपर ला समय गुजर गया है। इसके बावजूद खेतों में पानी नहीं है। बारिश की बेरुखी से किसानों को अभी से ही चिंता होने लगी है। बताते चले की प्रखंड के मयूरहंड,परोरिया,गणेशपुर,हुसिया,चोरहा,कदगांवा,सिंदवारी,बेलखोरी सहित दर्जनों गांव के किसान पम्प चलाकर खेतों में धान के बिछड़े तैयार करने में लगे है। ताकि समय पर धान के बिछड़े तैयार हो सके।

कोई टिप्पणी नहीं