Breaking News

div id='beakingnews'>Breaking News:
Loading...

बालू की कालाबाजारी- आकाश कुमार सिंह, arthviews, mayurhand


नदी से नहीं रुक रही बालु की तस्करी

मयूरहंड : जहां लोग कोरोना संक्रमण को लेकर घरों में रहकर  बिमारी से बचने के उपाय ढूंढ रहे है वही प्रखंड के पेटादेरी नदी घाट से बालु की दिन रात तस्करी हो रही है। बालु की तस्करी एक व्यापार का रूप ले लिया है। बालु माफिया प्रतिदिन दर्जनों ट्रैक्टर से बालु की तस्करी कर रहे है। बालु के उठाव से नदी का अस्तित्व खतरे में आ गया है। ग्रामीणों ने बताया की सुबह होते ही ट्रैक्टर की लंबी लाइन नदी के किनारे पर जा कर खड़ी हो जाती है। जिसके बाद बालु ट्रैक्टर में लोड कर चौपारण व बरही के बीच में बने डंप में जाकर खाली किया जाता है। बालु तस्करी को लेकर कई संगठन मुस्तैद है। सभी बालु तस्कर नदी पर खड़ा होकर ट्रैक्टरो पर बालु लोड कराने का कार्य करते हैं। जिसमे कुछ ग्रामीणों की मिलीभगत भी होती है। बालु माफिया बरसात को नजदीक देखकर बालु के भंडारण में लगे है। लॉगडाउन में बालु माफिया बिना किसी डर भय के बालु तस्करी धड़ेले से कर रहे है। बालु का उठाव पेटादेरी धोबिया घाट,देबादोरी घाट,मंझगावा घाट,सलैया टांड़ घाट से हो रहा है। जानकारी के अनुसार ग्रामीणों ने कई बार खनन विभाग से संपर्क करने का प्रयास किया है। परंतु संपर्क नहीं हो पा है। इधर ग्रामीणों का कहना है की बालु का प्रयोग जीटी रोड में किया जा रहा है। यदि इसी प्रकार बालु का उठाव होता रहा तो हम लोगो को अपनी आवश्कयता के लिए भी बालु नहीं मिल पायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं